18-Dec-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

पूंजीपतियों के खिलाफ कांग्रेस का ढोल की पोल आंदोलन प्रारंभ

Previous
Next

इंदौर में दिया धरना, अरूण यादव ने पूछे राज्य सरकार एवं पूंजीपतियों से सवाल
 
भोपाल 22 अक्टूबर। धोखेबाज पूंजीपतियों के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस ने शनिवार को इंदौर से अपने क्रमिक आंदोलन ‘ढोल की पोल’ का आगाज किया। राज्य सरकार द्वारा प्रस्तावित ग्लोबल इन्वेस्टर समिट उदघाटन के ठीक पहले आयोजन स्थल के समीप किये गये इस आंदोलन में कांग्रेस ने प्रदेश से धोखा करने वाले कई बड़े उद्योगपतियों और सरकार से कई सवाल किये।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव को कार्यक्रम में शामिल होना था। मध्यप्रदेश विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष सत्यदेव कटारे की अंत्येष्टि में शामिल होने की वजह से वे आंदोलन में शामिल नहीं हो पाये। यादव ने एक बयान में कहा, वे अगले चरण के इस आंदोलन की अगुवाई करेंगे। श्री यादव ने अंडानी-अंबानी से पूछे ये सवाल अनिल अंबानी क्या है आपका जवाब.....
‘‘अनिल अंबानी जी, 2010 की खजुराहो समिट ने आपने जमकर ताल ठोकी थी। आपकी कंपनी हर घंटे ढाई करोड़ रूपये मध्यप्रदेश में निवेश करेगी। पांच सालों में 75 हजार करोड़ रूपये के निवेश का आपने वायदा किया था, क्या हुआ, उस वायदे का...? जमीन ली, छूट ली और बाद में अपने पावर प्लांट को बेचने में क्योें लग गये आप...? भोपाल में धीरूभाई अंबानी जी के नाम से स्थापित की जाने वाली यूनीवर्सिटी का इरादा क्यों त्याग दिया...? सिंगरौली में हवाई अड्डा क्यों नहीं बनाया...?’’
कहां हैं सनी भईया....?
‘‘सनी भईया (सनी गौर) आप कहां हैं? इन दिनों क्या कर रहे हैं? प्रदेश की जनता जानने को बेताब है। आपकी कंपनी के शेयरों के दाम बढ़ने की बजाय तेजी से औंधे मुंह क्यों गिर गये हैं? जरूर बतायें। जेपी साहब के भी सुर मद्धिम क्यों हैं? पिछली ग्लोबल इन्वेस्टर समिटों में कई बड़े और नये उद्योगों की घोषणा...टांय-टांय फिस्स क्यों हो गयीं..? आप ही खुलासा करें। सरकार तो मौन है, कुछ नहीं बताती...आप ही बतायें।
अडानी साहब गुजरात नहीं, यह मध्यप्रदेश है
‘‘गौतम अडानी जी, यह मध्यप्रदेश है। इसे गुजरात नहीं समझिये। शिवराज सरकार मौन रह सकती है, यहां की जनता नहीं। वह और हम, आपसे हिसाब मांगेंगे। बार-बार मांगेंगे। आपने पिछली समिट में 20 हजार करोड़ रूपयों के निवेश का वादा मध्यप्रदेश से किया था। आपकी कंपनी के उद्योग मध्यप्रदेश में कहां लग रहे हैं? किन क्षेत्रों को इनके लिये चुना है? कृपया आप ही बतायें। सरकार नहीं बताती। उद्योग कब तक स्थापित हो जायेंगे? मध्यप्रदेश को कब इनसे फायदा मिलेगा? हमारे कितने युवा रोजगार प्राप्त कर पायेंगे? कुछ तो बतायें.....मिस्टर अडानी।
 
यादव ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह से भी मांगे इन प्रश्नों के जवाब पूछा ळव्प् 2014 के इन वादों और दावों का क्या हुआ...?
01.     6.89 लाख करोड़ के निवेश प्रस्तावों में कितने मूर्त रूप ले पाये...?
02.     क्या है ‘‘मेक इन मध्यप्रदेश’’ की स्थिति...?
03.     मुकेश अंबानी के के डेढ़ सालों में 20 हजार करोड़ निवेश के दावों की आज क्या है स्थिति.?
04.     अनिल अंबानी के नये 30 हजार करोड़ में कितना निवेश आया...?
05.     गौतम अडानी 20 हजार करोड़ में कितना निवेश कर पाये...?
06.     जेपी के भारी-भरकम निवेश के वादों का क्या हुआ...?
07.     केन्द्रीय रसायन मंत्रालय के बीना रिफायनरी में एक लाख करोड़ की लागत से केमिकल पेट्रो
इन्वेस्टमेंट रीजन बनाने में क्या प्रगति हुई..?
08.    पीयूश गोयल के मंत्रालय ने 50 हजार करोड़ के निवेश में कितनी राशि अब तक मध्यप्रदेश
में निवेश की...?
09.    एस्सेल ग्रुप के सुभाष चंद्रा की 50 हजार करोड़ की छह परियोजनाएं कहां तक पहुंची....?
10.    32 देश, नौ पार्टनर कंट्रियों और 28 राजदूतों के निवेश के भरोसे के क्या हैं हाल...?
11.    टाटा समूह ने सर्विस कंसलटेंसी इंदौर में खोल ली क्या...?
12.     खोल ली तो सायरस मिस्त्री की घोषणा के अनुसार इंदौर के 10 हजार युवाओं में कितनों को
रोजगार दे पायी टाटा की कंपनी...?
13.     फ्यूचर समूह 10 हजार युवाओं में कितनों को रोजगार दे पाया...?
14.     शशि रूईया ने 4000 करोड़ में कितना निवेश मप्र अब तक किया...?
15.     वेलस्पन समूह केे 5000 करोड़ के निवेश की क्या है प्रगति....?
ढोल की पोल आंदोलन के दौरान ‘‘धोखेबाज पूंजीपति, धोखेबाज शिवराज, बंद करो ठगी और प्रदेश पर अत्याचार’’, ‘‘अनिल अंबानी....क्या हुआ तेरा वादा, हर घंटे ढाई करोड़ निवेश टांय-टांय फिस्स’’, ‘‘अडानी मध्यप्रदेश को बख्शो, इसे चारागाह मत समझो......’’, ‘‘निवेश की हकीकत सामने लाओ, शिवराज, श्वेत पत्र जल्दी लाओ’’, ‘‘कहां हैं जेपी कहां है सनी गौर, खूब ढूंढा नहीं मिल रहे चारों और’’, ‘‘बंद करो जीआईएस का नाटक, परेशान जनता बंद कर रही है फाटक’’ सरकार और धोखेबाज पूंजीपतियों के खिलाफ जैसे नारे लगाकर आंदोलन किया गया।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:7071873

Todays Visiter:7336