25-Jun-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

अटलजी का जन्मदिवस 25 दिसंबर को प्रदेश भर में सुशासन और सेवा दिवस के रूप में मनाया जायेगा

Previous
Next

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व प्रधानमंत्री पं. अटलबिहारी वाजपेयी का जन्मदिन 25 दिसंबर को पूरे प्रदेश भर में सुशासन एवं सेवा दिवस के रूप में मनाया जायेगा। प्रदेश अध्यक्ष व सांसद नंदकुमारसिंह चौहान और प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत ने इस अवसर पर पं. अटलबिहारी वाजपेयी के स्वस्थ दीर्घजीवन की कामना करते हुए कहा कि सुशासन और सेवा अटलजी की प्रतिबद्धता रही है। सुशासन और सेवा के क्षेत्र में केन्द्र सरकार की सक्रियता और राज्य सरकार की लोकहितैषी कार्यक्रम की सर्वत्र प्रशंसा की जा रही है। सुशासन और सेवा का संदेश इस मौके पर जन-जन तक पहंुचाने में कार्यकर्ताओं की सक्रियता की आवश्यक है।

प्रदेश कार्यालय मंत्री सत्येन्द्र भूषण सिंह ने बताया कि प्रदेश भर में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में अटलजी के जन्मदिवस पर जन जन को भारतीय जनता पार्टी का सबका साथ सबका विकास मिशन समझना है। प्रदेश और देश में इस दरम्यान भारतीय जनता पार्टी की सरकार और कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकार की उपलब्धियां बतायी जायेगी। जिससे जनता जान सके कि भाजपा के शासनकाल में विकास लेस धरातल पर उतरा है। कांग्रेस नारों और वायदों तक सीमित रही है। कांग्रेस के पास बताने के लिए कोई उपलब्धियां नहीं है।

उन्होंने कहा कि सुशासन और सेवा दिवस समारोह में समाज के कमजोर अशक्त वर्ग को भी शामिल किया जायेगा। अस्पतालों, वृद्धाश्रमों, मूकबधिर केन्द्रों, कमजोर बस्तियों में गरम कपड़े, कंबल, फल, मिठाई भेंट की जायेगी। जिससे जन जन सेवा का अहसास कर सके। सुशासन एवं सेवा दिवस के अवसर पर युवा वर्ग के बीच अटल सरकार और मोदी सरकार की उपलब्धियां प्रस्तुत करने के लिए साहित्यिक प्रतियोगिताएं आयोजित की जायेगी। युवा मोर्चा इस दिशा में पहल करेगा तथा शिक्षा संकुल में विकास और सेवा की सुरूभि बिखेरेगा।

सभी जिला कार्यालयों में पार्टी के पदाधिकारी, वरिष्ठ कार्यकर्ता सामूहिक रूप से सुशासन और सेवा के लिए समर्पित होने की शपथ लेंगे। पार्टी का आईटी प्रकोष्ठ भी सुशासन और सेवा दिवस पर इस क्षेत्र की उपलब्धियां जन जन से सांझा करेगा। सुशासन और सेवा दिवस की संध्या पार्टी कार्यालय परिसरों में प्रकाशोत्सव मनाया जायेगा।


राहुल गांधी सर्वोच्च न्यायालय की नसीहत से सबक लेते तो जग हंसाई नहीं होती- चौहान

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि कांगे्रस उपाध्यक्ष श्री राहुल गांधी ने यदि पिछले दिनों सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दी गयी नसीहत पर ध्यान दिया होता तो बिना सबूत के आरोप लगाकर उन्हें न तो जनता की नजरों से गिरना पड़ता और न ही उनकी जग हंसाई होती। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बढ़ती लोकप्रियता से तो कांगे्रस सहित तमाम लोगों को ईष्र्या 2002 से हो रही है, जब उन्होनें गुजरात में सत्ता संभालकर उसे देश का सर्वाधिक संपन्न प्रदेश बना दिया था और जनता के मानस पर अपनी छवि बना चुके थे। श्री नरेन्द्र मोदी की नैतिकता पर सवाल उठाते हुए जितने प्रकरण बनाये जा सकते थे, सभी का उन्होनें नैतिक बल से सामना किया। आरोपों का उल्टा असर पड़ा और कांगे्रस सदा के लिए गुजरात से विसर्जित तो हुई अन्य प्रदेशों में सत्ता गंवाना पड़ी और 2014 में लोकसभा चुनाव में तो सिमट कर 44 सीटों पर जा पहुंची। अब कांगे्रस की हैसियत विपक्षी दल की भी नहीं रही। ऐसे में श्री राहुल गांधी के द्वारा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी पर लगाये गये मिथ्या आरोप महज आरोप है, जिन पर सुप्रीम कोर्ट पहले ही इस चेतावनी के साथ न्यायमूर्ति भी टिप्पणी कर चुके है कि संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति के विरूद्ध निराधार आरोप लगाने की प्रवृत्ति अनुचित है।

उन्होनें कहा कि राहुल गांधी कुंठाग्रस्त है। 2014 की पराजय का सबब खोजने के बजाय उन्होनें जो चरित्रहनन की सियासत जारी रखी है, वे स्वंय हास्यास्पद होने के साथ कांगे्रस की विश्वसनीयता पर बट्टा लगा रहे है। उन्होनें कहा कि कांगे्रस खुद यूपीए के शासनकाल के दस वर्षों में हुए 12 लाख करोड़ के भ्रष्टाचार और घोटालों के कठघरे में है। राहुल गांधी स्वयं नेशनल हेराल्ड समाचार-पत्र की संपत्ति की हेराफेरी के 5000 करोड़ रू. के घोटाले में जमानत पर है। वे मिथ्या दोषारोपण कर न तो अपनी गलतियों से मुक्त हो सकते है और न ही जनता का विश्वास बहाल कर सकते है। 12 लाख करोड़ रू. के घोटाले कांगे्रस के पीछे प्रेतछाया की तरह मंडरा रहे है।

नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि राहुल गांधी का कथन कि उनके मुंह खोलने पर भूकंप आ जायेगा महज जुमला है। इसकी कूबत जनता देख चुकी है। लोकसभा में बोलने से उन्हें न तो कोई शक्ति रोकने वाली थी और न उनके पास कोई सबूत थे। अलबत्ता, उन्होनें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के पद चिन्हों पर चलकर अपने को फेंकुओं की गिनती में शामिल कर लिया है, जो कांगे्रस जैसे सम्मानित दल के पदाधिकारी की गरिमा को आहत कर रहा है।

 
पितृपुरूष की पुण्यतिथि 28 दिसंबर को प्रदेश भर में सुन्दरकांड पाठ, भजन संध्या का आयोजन

भारतीय जनता पार्टी के पितृपुरूष स्व. कुशाभाऊ ठाकरे की पुण्यतिथि 28 दिसंबर को पार्टी कार्यालय सहित जिला स्तर पर संगोष्ठी, सुंदरकांड का पारायण एवं भजन संध्या का आयोजन किया जायेगा।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:5951772

Todays Visiter:3571