20-Nov-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर भाजपा फैला रही है भ्रम

Previous
Next

व्यापमं के पाप से कोई भी दोषी नहीं बचेगा: कांग्रेस

भोपाल 15 दिसम्बर। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता के.के. मिश्रा ने आज सर्वोच्च न्यायलय द्वारा प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं अभा कांग्रेस कमेटी के महासचिव दिग्विजय सिंह द्वारा व्यापमं महाघोटाले को लेकर दायर एक याचिका के परिप्रेक्ष्य में जारी आदेश की व्याख्या  भाजपा द्वारा अपने पक्ष में की जाकर भ्रम फैलाने का गंभीर आरोप लगाया है।

आज यहां जारी अपने बयान में श्री मिश्रा ने कहा कि दरअसल सर्वोच्च न्यायलय ने इस याचिका को यह कहकर डिस्पोजल किया है कि सर्वोच्च न्यायालय सीबीआई जांच में मॉनिटरिंग नहीं करेगा, न्यायालय ने अन्य मामलों की जांच आगामी 3 माह में करने का निर्देश भी सीबाआई को दिया है। उन्होंने कहा कि जहाँ तक हार्डडिस्क में टेम्परिंग का ताल्लुक है सीबीआई किस आधार पर कह रही है कि टेम्परिंग नहीं हुई है, जबकि अभी तक दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्देश पर इस विषयक हैदराबाद की लैब द्वारा की गई जांच का लिफाफा ही नहीं खुला है? क्या सीबीआई यह कहने को भी तैयार है कि ऐसे ही एक अन्य मामले के याचिकाकर्ता श्री प्रशांत पाण्डे द्वारा कोर्ट में ही प्रस्तुत ‘‘मिरर इमेज’’ (सिस्टम फाईल) भी गलत है और यदि गलत है तो क्या सीबीआई उनके विरूद्ध कार्यवाही करेगी? यदि सीबीआई द्वारा टेंपरिंग नहीं होने की बात को सच भी मान लिया जाये तो सीबीआई ने अपने पास टेम्परिंग नहीं होने वाली उपलब्ध हार्डडिस्क के आधार पर केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती, दिवंगत संघ प्रमुख के.सी. सुदर्शन, आरएसएस के सरसंघकार्यवाह सुरेश सोनी, प्रदेश मंत्रिमंडल के एक वरिष्ठ काबीना मंत्री की पत्नी आदि के विरूद्व अब तक कार्यवाही क्यों नहीं की? सीबीआई का टेम्परिंग नहीं होने का कथन स्वयं जांच की पारदर्शिता पर प्रश्नचिन्ह है!  

सर्वाेच्च न्यायायलय द्वारा आज पारित आदेश की भाजपा द्वारा अपने पक्ष में की गई व्याख्या और मनाये जा रहे जश्न को राजनैतिक बेशर्मी की दोयम दर्जे की पराकाष्ठा बताते हुए मिश्रा ने कहा कि क्या भाजपा इस बात से भी इत्तफाक नहीं रखती है कि म.प्र. में व्यापम घोटाला हुआ है, इसमें राज्यपाल, उनके 2 बेटों के विरूद्ध प्राथमिकी दर्ज हुई है, राज्यपाल के ओएसडी जेल गए, सीएम के ओएसडी जमानत पर हैं, सरकार के मंत्री जेल गए, व्यापमं के पंकज त्रिवेदी, नितिन महिंद्रा, क्रिस्प के मुखिया सुधीर शर्मा जेल गए, इनकी नियुक्तियां किसने की, व्यापमं के माध्यम से ही सभी प्रतियोगी परीक्षाओं को कराने का निर्णय क्या शिवराज सरकार का नहीं था, यह निर्णय क्यों लिया गया, इस घोटाले में अन्य आईएएस, आईपीएस, शिक्षा-चिकित्सा माफिया तथा अन्य दलालों की भूमिकाएं क्या थी? राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त व्यापमं महाघोटाले के आरोपी डॉ. गुलाबसिंह किरार कौन और किसके रिश्तेदार हैं, एक अन्य प्रमुख आरोपी व मुख्यमंत्री के करीबी राघवेंद्रसिंह तोमर को गिरफ्तारी के बाद उन्हें सरकारी गवाह किसके दबाव में बनाया गया? क्या इतने बड़े महाघोटाले की कहानी सिर्फ एक व्यक्ति लिख सकता है? कभी नहीं....!
श्री मिश्रा ने कहा कि दोषी सरकार और उसके पक्ष में खड़ी नजर आ रही भाजपा को इन सभी पापों का उत्तर जश्न मनाने के पहले देना होगा, अभी लड़ाई खत्म नहीं शुरू हुई हैं। इस मुद्दे पर अन्य 5 याचिकाएं अभी सर्वोच्च न्यायालय में और भी लंबित हैं।

भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मप्र यात्रा का मुख्यमंत्री शिवराजसिंह ने किया बहिष्कार: के.के. मिश्रा

देश के प्रथम नागरिक और भारत के राष्ट्रपति महामहिम प्रणब मुखर्जी की मध्यप्रदेश यात्रा का प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने अघोषित रूप से न केवल बहिष्कार किया है, बल्कि अतार्किक टिप्पणियां उनके माध्यम से की गई है, जो घोर अपमान की श्रेणी में आता है। यह आरोप प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता के.के. मिश्रा ने आज अपने एक बयान में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पर लगाया है।

मिश्रा ने बताया है कि देश के प्रमुख उद्योगपतियों से जुड़ी हुई संस्था सीआईआई का छिन्दवाड़ा में स्किल डेव्लपमेंट और वार्षिक आयोजन था। यह उल्लेखनीय है कि यह वही संस्था सीआईआई है जो मध्यप्रदेश सरकार के लिए लंबे समय से राज्य में उद्योगपतियों को एक मंच पर लाने के लिए प्रयास कर रही है। यह संस्था मध्यप्रदेश सरकार के साथ अधिकृत रूप से पार्टनर है और साथ ही सीआईआई अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी मप्र सरकार के लिए उद्योग से जुड़े कार्यक्रमों को कराने में प्रमुख भूमिका निभाती है, इस कार्य के लिए राज्य सरकार सीआईआई को करोड़ों रूपयों का भुगतान करती है।

मिश्रा ने कहा कि यह इस बात का प्रमाण है कि जिस संस्था का सरकार लंबे समय से राज्य में निवेश कराने के लिए पार्टनर के रूप में उनसे सहयोग ले रही हो उसी संस्था द्वारा आयोजित कार्यक्रमों में प्रदेश की भोली-भाली जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट यानी जीआईएस के नाम पर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान अपनी स्वयं की ब्रांडिंग पर लुटाते हैं। इससे जाहिर होता है कि मुख्यमंत्री सिर्फ अपनी ब्रांडिंग के लिए सीआईआई का उपयोग करते हैं, प्रदेश में निवेश से उन्हें कोई लेना देना नहीं।

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में लोह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की पुण्यतिथि पर उन्हें दी गई श्रद्धांजलि

लोह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल की 60 वीं पुण्यतिथि पर राजधानी के शिवाजी नगर स्थित प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेसजनों द्वारा उन्हें स्मरण कर उनके चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर पुष्पांजलि दी गई। कार्यक्रम के दौरान दो मिनिट का मौन रखा गया।
पुष्पांजलि कार्यक्रम में प्रदेश कांग्रेस के संगठन प्रभारी महामंत्री चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी, महामंत्री पी.सी. शर्मा, ओम रघुवंशी, मुख्य प्रवक्ता के.के. मिश्रा, प्रवक्ता रवि सक्सेना, जे.पी. धनोपिया, श्रीमती विभा पटेल, दुर्गेश शर्मा, सचिव एवं भोपाल के प्रभारी जितेन्द्रसिंह बघेल, विचार विभाग के अध्यक्ष भूपेन्द्र गुप्ता, पूर्व महापौर दीपचंद यादव, सेवादल पदाधिकारी मिर्जा नूर बेग, जिला कांग्रेस प्रवक्ता आनंद तारण, हुकुमचंद सौरइया, रवीन्द्र सदगर, उदयवीरसिंह, मिन्टू राय सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसजन उपस्थित थे।

प्रदेश के नगरीय निकायों के पार्षदों के उपचुनाव में कांग्रेस चार स्थानों पर विजयी रही 

प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर हुये नगर पालिका एवं नगर परिषद के पार्षद पद के उपचुनाव में कांग्रेस ने चार स्थान पर जीत हॉसिल की है।
प्रदेश कांग्रेस के संगठन प्रभारी महामंत्री चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी ने कहा है कि भाजपा सरकार की नीतियों और उसकी थोथी घोषणाओं के चलते दतिया नगर परिषद बडौनी के वार्ड क्र. 2, नीचम नगर परिषद जावद के वार्ड 13, मंदसौर नगर पालिका परिषद मंदसौर और बैतूल जिला पंचायत सदस्य मुकेश इवने ने वार्ड क्र. 5, जो कि मंगलसिंह विधायक भाजपा क्षेत्र से जीत हासिल की है। 

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:6883891

Todays Visiter:3243