22-Nov-2019

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

संजय पाठक के मंत्री पद पर लटक गयी तलवार, फैसला जल्‍द लेने का दबाव, सीएम ने कहा कार्रवाई होगी

Previous
Next

राजकाज न्‍यूज, भोपाल

मध्‍यप्रदेश की राजनीत‍ि में जहां एक ओर मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का प्रभाव क्षेत्र बढ़ता जा रहा हैं, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस छोड़कर भाजपा में अपना रूतबा बरकरार रखने वाले राज्‍य मंत्री संजय पाठक के कारण भाजपा की किर-किरी हो रही है। उनके कारण जहां पार्टी की छवि को बट्टा लग रहा है, वहीं कई भाजपा नेताओं पर भी इसका असर पड़ रहा है। कारोबारी राज्‍य मंत्री पाठक को भाजपा में लाने वाले भाजपा नेताओं पर भी उंगली उठने से हालात यह बन रहे है कि पाठक का मंत्री पद से हटाने पर भाजपा के अंदरखानों में चर्चा चल पड़ी है। उधर कटनी एसपी को हटाने का मामला भी राज्‍य सरकार के गले में हड्डी फंसने जैसा हो गया है, हांलाकि राज्‍य सरकार ने अपने आदेश को बरकरार रखते हुए जहां एक ओर नये एसपी शशिकांत शुक्‍ला को ज्‍वाइन करा दिया है, वहीं गौरव तिवारी को भी छिंदवाड़ा एसपी की कमान संभालने के लिए तैयार कर लिया है। क्‍योंकि स्‍थानान्‍तरण के बाद तिवारी बाहर चले गये थे।

शनिवार को भोपाल में एक कार्यक्रम में मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि जो दोषी होगा उस पर कार्रवाई होगी, किसी को नहीं छोंड़ूगा। जांच होने दीजिए, आरोप सिद्ध हो गए तो कार्रवाई की जाएगी। मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी)को सौंपी जा रही है। कटनी एसपी के तबादले को प्रशासनिक प्रक्रिया बताते हुए सीएम बोले कि गौरव तिवारी अच्छे अधिकारी हैं और शशिकांत शुक्ला भी 'बहुत अच्छे" अफसर हैं। मप्र पुलिस पर हमें गर्व है। उन्होंने बताया कि हवाला कारोबार कई देश और दूसरे राज्यों से भी जुड़ा होता है, इसलिए मामले की जांच ईडी को सौंपी जा रही है। गृह मंत्रालय की ओर से इस संबंध में पत्र भेजा गया है। उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि जो जांच पुलिस को करनी है, वह पूर्ववत जारी रहेगी। कटनी एसपी का तबादला और आंदोलन के सवाल पर वह बोले तबादला तो प्रशासनिक प्रक्रिया है। मप्र पुलिस पर हमें गर्व है, हमारे यहां अनेक काबिल अफसर हैं। गौरव तिवारी भी अच्छे अफसर हैं, शशिकांत शुक्ला भी बहुत अच्छे हैं।

कटनी में आंदोलन जारी है। महिलाओं की गिरफ्तारी के बाद से सरकार के सामने मुश्किलें बढ़ गई थी। गौरव तिवारी को मिले जनसमर्थन के कारण राज्‍य सरकार की छवि पर भी असर पड़ा है। 6 माह में दो बार तबादले से राज्‍य शासन की तबादला नीति पर भी धब्‍बा लगा है। क्‍योंकि तिवारी पर ऐसा कोई आरोप नहीं था, जिसके कारण उन्‍हें वहां से हटाया जाने की स्थिति बनती हो। उन्‍हें हटाये जाने को लेकर विरोधी राजनीतिक दलों को भी जनता के साथ खड़े होने का मौका मिल गया है। कहा तो यह भी जा रहा है कि भाजपा के भी कुछ नेताओं का उन्‍हें अंदरूनी समर्थन मिल रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की कालेधन के खिलाफ मुहिम के बीच संजय पाठक का नाम हवाला मामले में आने से सरकार की मुश्किल ज्‍यादा हो रही है, लेकिन पाठक के खिलाफ कार्रवाई से भी सरकार को मुश्किल का सामना करना होगा। क्‍योंकि इससे उन नेताओं पर भी उंगली उठेगी जो पाठक को भाजपा में लेकर आए। इन नेताओं पर पाठक से सुख-सुविधा लेने और अर्थ लाभ उठाने के आरोपों को भी बल मिलेगा।

उधर बीते दिवस यानि शुक्रवार को दिल्ली में मप्र के कटनी से जुड़े हवाला कांड का मामला काफी छाया रहा। इस दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय से लेकर भाजपा के दिल्‍ली कार्यालय सभी जगहों पर हलचल देखी गई। उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो इस मामले में किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। लेकिन जो भी होगा, वह कानूनी तरीके से होगा। इसके लिए ईडी को आगे किया गया है। जो जल्द ही इस मामले में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करेगी। जिसके आधार पर ही कार्रवाईयां तय होगी। माना जा रहा है कि पार्टी जल्द ही मामले में प्रथमदृष्टया आरोपी मंत्री संजय पाठक की विदाई कर देगी। साथ ही जांच रिपोर्ट के बाद आगे का फैसला लिया जाएगा। बता दें कि कटनी के हवालाकांड की जांच कर रहे एसपी गौरव तिवारी को वहां से हटाए जाने के बाद यह पूरा मामला चर्चा में आया। हाल ही में सागर में हुई भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति में भी कटनी के हवालाकांड का मुद्दा छाया रहा। इस दौरान पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने इस मामले को संगठन के सामने उठाकर कार्रवाई की मांग की।

हवालाकांड की जांच कर रहे कटनी एसपी गौरव तिवारी का भाजपा सासंद प्रहलाद पटेल खुलकर समर्थन किया है। साथ ही उनके स्थानांतरण को गलत बताया है। हालांकि उन्होंने कहा कि उनकी बतौर एसपी गौरव तिवारी से कभी भी कोई बात या मुलाकात नहीं हुई है, लेकिन जो भी मीडिया के जरिए सामने आ रहा है, उससे यह तो साफ है कि कार्रवाई गलत हुई है। जांच से उन्हें हटाना कई सवालों को खड़ा करता है। कोयला कारोबारी सरावगी बंधुओं द्वारा किए गए 500 करोड़ के हवाला कारोबार की जांच में जप्त किए गए बोरे में मिली फाइलों में मंत्री संजय पाठक की कंपनी आनंद माइनिंग कार्पोरेशन का भी नाम है। एसके मिनरल्स द्वारा 100 से ज्यादा बोगस खाते से 500 करोड़ का हवाला कारोबार की जांच कर रहे तत्कालीन एसपी गौरव तिवारी ने 6 जनवरी 2017 की रात को एक लोडर पकड़ा था, जिसमें 26 बोरों में भरकर एसके मिनरल्स, सरावगी बंधुओं सहित 42 फर्मों की लगभग 500 फाइलें ले जाई जा रही थी। संदेह के आधार पर पुलिस ने केस दर्ज कर इन फाइलों को जब्त कर लिया था। फाइलें जब्त होते ही मामले के जांच अधिकारी कोतवाली टीआई एसपीएस बघेल को डायरी सहित भोपाल पुलिस मुख्यालय तलब कर लिया गया था। 3 दिन बाद 9 जनवरी 2017 को इस मामले का खुलासा करने वाले एसपी गौरव तिवारी का तबादला छिंदवाड़ा कर दिया गया।

बोरे में मिले कई फर्म के कागजात

यूरो प्रतीक इस्पात, मनीष सरावगी, सतीश सरावगी, आनंद माइनिंग कार्पोरेशन, ब्लॉक टॉवर कार्पोरेशन, मित्रा एसके प्राइवेट लिमिटेड, फास्ट लॉजिस्टि, मिश्रा एसके फर्म, समरिया इंटरप्राइजेस, सहारा स्टील प्रायवेट लिमिटेड, पप्पू अग्रवाल, महाराष्ट्र स्मार्ट स्केल इंडस्ट्रीज, महाकालेश्वर माइंस मिनरल्स, बजरंग पॉवर ट्रांसपोर्ट, अमर शक्ति रोड लाइन्स, महाप्रातेश्वर माइंस मिनरल्स, एसके सिमिंग, छत्तीसगढ़ बुंदेलखंड इंटरप्राइजेस, श्री सार्क ट्रांसपोर्ट कंपनी, वर्धमान रोड कैरियर, सूरजदीप इंटरप्राइजेस, अमरप्रायवेट रोड लाइंस, सावरिया इंटरप्राइजेस, टेस्ट मेरी माइंस कार्पोरेशन, ग्लोक्स कंस्ट्रक्शन, ओमशांति इंटर प्राइजेस, चंदिया इंटरप्राइजेस, बालाजी इंटरप्राइजेस, गाताजी इंटरप्राइजेस, राजा सरावगी, कान्हा कर्मिशयल, साउथ ईस्टर्न कोल फीडर्स, बजरंग पॉवर एंड इस्पात, बालाजी कोल, ऑटोमोबाइल, शांति उद्योग, आकंक्षा मिनरल्स, साईंनाथ इंटरप्राइजेस, जीआर मेटलिक्स, रामपुर इत्यादि।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0