21-May-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

पटवाजी अजेय योद्धा थे, उनके पद चिन्हों पर चलना ही सच्ची श्रद्धांजलि होगी

Previous
Next

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता, संगठन के स्तंभ राजनीति के पुरोधा सुंदरलाल पटवा का पार्थिव शरीर हजारों की संख्या में जनसमुदाय के बीच कुकड़ेश्वर में पंचतत्व में विलीन हुआ। पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सह कार्यवाह सुरेश सोनी, राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह सहित केन्द्रीय मंत्री, पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता अंत्येष्टि में शामिल हुए। मुखाग्नि उनके भाई संपतलाल पटवा, समरथलाल पटवा, डॉ. विनोद पटवा एवं श्री सुरेन्द्र पटवा ने दी। पटवा की अंतिम यात्रा उनके निज निवास फुलवारी से पटवा मांगलिक भवन होते हुए विश्राम घाट पहुंची। यात्रा मार्ग में हजारों की संख्या में आमजन ने पुष्पवर्षा कर स्व. सुंदरलाल पटवा को अंतिम विदाई दी।

पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि सुंदरलाल पटवा संगठन शिल्पी थे। संगठन गढ़ा और सबको साथ लेकर निरंतर संगठन और विचारों के प्रति निष्ठावान रहकर हमें सीख दे गए। उनके मन, क्रम, वचन और आचरण में दुर्लभ साम्य था जो हमेशा प्रेरणा कारक होता है।   

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सहकार्यवाह सुरेश सोनी ने संुदरलाल पटवा को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि मौका गमगीन है। सभी व्यथित है। परंतु यह एक शाश्वत सत्य है। इसलिए करूणा की नहीं, आवश्यकता है कि पटवा के पौरूष से हम प्रेरणा लें। आगे बढ़े और संगठन के प्रति समर्पित रहें।

राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने कहा कि सुंदरलाल पटवा जी हमारे बीच में नहीं है, लेकिन उनके द्वारा संगठन के प्रति अटल निष्ठा हमारे लिए आदर्श है। पटवा जी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। उनके संपर्क में आना एक सौभाग्य था। उन्होंने संपर्क में आए व्यक्ति के मानस पर अमित छाप अंकित की। एक विलक्षण सत्य यह है कि पटवाजी लोकप्रिय थे। लोग उन्हें जानते थे और उनके कहे को मानते भी थे। ऐसा संयोग अन्यत्र दुर्लभ है।

केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री सुश्री उमा भारती ने भावांजलि अर्पित करते हुए कहा कि संुदरलाल पटवा का राजनैतिक जीवन एक तपस्या और साधना का समग्र संगम है। उन्होंने सर्वथा प्रतिकूलता के दौर में साहस को ईमान की तरह संजोया। पराजय बोध फटकने नहीं दिया। कठिनतम परिस्थितियों में एक राजनैतिक कार्यकर्ता का मनोबल कितना बुलंद रह सकता है जीकर दिखाया। कार्यकर्ता उनके जीवन से निर्भीकता, साहस और पराक्रम की सीख लेंगे यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जनता और मध्यप्रदेश सरकार की ओर से शोक श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि आदर्श राजनेता, कुशल संगठक, सामाजिक सरोकार के निर्वाह में उनकी उदारता ने सभी को अपना मुरीद बनाया। निष्ठाओं का निर्वाह उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता रही। उन्होंने एक समग्र जीवन जिस पराक्रम के साथ जिया उसी बेफिक्री के साथ महाप्रयाण किया। चौहान ने कहा कि पटवाजी ने एक शाश्वत सीख दी और जीकर भी बता दिया कि जिस साहस और पराक्रम के साथ जीना है। उसी मनोभाव से महाशांति में विलीन हो जाना है। जिन्दगी और मौत को एक मनोभाव से गले लगाना है। पटवाजी ने कभी पराजय बोध को समीप फटकने नहीं दिया। असंदिग्ध रूप से वे मानते थे कि हार ही सफलता का आधार है। हार के बाद भी पराजय बोध से ग्रसित नहीं होना सही कार्यकर्ता की पहचान है। कार्यकर्ताओं के लिए पटवा जी ने जीवन पर्यन्त सेवा समर्पण और त्याग तपस्या का संदेश दिया।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ की जनता और सरकार की ओर से दिवंगत नेता को श्रद्धासुमन अर्पित किए और शोकाकुल परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की। डाॅ. रमन सिंह ने कहा कि पटवा जी ने हमारे जैसे लाखों कार्यकर्ताओं को अंगुली पकड़कर चलना सिखाया। कार्यकर्ताओं की पीढ़ियों का उन्होंने निर्माण किया और काबिल बनाया। जिन्होंने राजनीति में अपना मुकाम बनाकर संगठन की कीर्ति को विस्तार दिया है। कार्यकर्ताओं में भरोसा और आत्मविश्वास जगाने की कला पटवाजी से सीखना होगी, यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

जनसंपर्क, जल-संसाधन तथा संसदीय कार्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा आज हेलीकाप्टर से नीमच जिले के कुकड़ेश्वर पहुँचे। डॉ. मिश्रा वरिष्ठ नेता, पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा की अंत्येष्टि में शामिल हुए। डॉ.मिश्रा ने स्व. पटवा के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र चढ़ाया और श्रद्धांजलि दी। स्व. श्री सुंदरलाल पटवा का आज दोपहर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री नरेन्द्र नाहटा ने कहा कि संुदरलाल पटवा की जीवटता, जिजीविषा और जिज्ञासुपन ने उनके व्यक्तित्व को समग्रता प्रदान की। राजनैतिक भेदभाव से परे वे सच्चे राजनयिक थे जो विरोध और असहमति में भी संवेदना, सरोकार बनाए रखने की कला में प्रवीण थे।

शोकसभा के उपरांत आगन्तुकों ने सुरेन्द्र पटवा और शोक संतप्त पटवा परिवार के प्रति अपनी गहन शोक संवेदना व्यक्त की और शोकाकुल परिवार को ढांढस बंधाया।

शोक श्रद्धांजलि सभा में पूर्व मुख्यमंत्री कैलाश जोशी, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्रसिंह तोमर, थावरचन्द गेहलोत, फग्गनसिंह कुलस्ते, राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश अध्यक्ष व सांसद नंदकुमारसिंह चौहान, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक अरूण जैन, छत्तीसगढ़ के मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, राजेश मूणत, प्रेमप्रकाश पाण्डे, छत्तीसगढ़ भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धर्मलाल कौशिक, अरविन्द मेनन, डॉ. सत्यनारायण जटिया, हरियाणा के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनकड़, माखन सिंह चौहान, विक्रम वर्मा, प्रदेश शासन के वरिष्ठ मंत्री गौरीशंकर शेजवार, जयंत मलैया, नरोत्तम मिश्रा, लालसिंह आर्य, श्रीमती अर्चना चिटनीस, रामपाल सिंह, दीपक जोशी, पारस जैन, प्रदेश उपाध्यक्ष सुदर्शन गुप्ता, प्रदेश महामंत्री श्री विष्णुदत्त शर्मा, सांसद श्री मेघराज जैन, रोडमल नागर, सुधीर गुप्ता, कांग्रेस नेत्री श्रीमती मीनाक्षी नटराजन, युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष अभिलाष पाण्डे, विधायक श्रीमती नीना वर्मा, कैलाश चावला, श्री दिलीपसिंह परिहार, चेतन्य काश्यप, ओमप्रकाश सखलेचा, देवीलाल धाकड़, चन्दर सिंह, जगदीश देवड़ा, राधेश्याम पाटीदार, ललित पोरवाल, अमरसिंह यादव, रमेश शर्मा गुट्टू भैया, गोविन्द मालू, हेमंत हरित, विशाल राजौरिया, सहित मंत्रीगण, सांसद, विधायक, प्रदेश पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं क्षेत्र की जनता ने भाव विह्ल होकर श्रद्धासुमन अर्पित किए।

विदेशी चंदा लेने वाले गैर सरकारी संगठनों पर रोक सामयिक कदम- डॉ. विजयवर्गीय

भारतीय जनता पार्टी के मुख्य प्रदेश प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि देश में चल रहे 33 हजार गैर सरकारी संगठनों में से 20 हजार एनजीओ को विदेशी चंदा लेने से प्रतिबंधित करके केन्द्र सरकार ने बहुप्रतीक्षित कदम उठाया है। क्योंकि सेवा के नाम पर चंदा लेने वाले इन संगठनों की भूमिका समाज में तनाव, असंतोष पैदा करने की पायी गयी है। आवश्यकता इस बात की है कि केन्द्र सरकार एक सक्षम नियामक संस्था का गठन करे जो इनकी घोषित गतिविधियों की जांच कर सके। कई विकास परियोजनाओं को लेकर जनता को भ्रमित करने का काम इन संस्थाओं द्वारा किया जाना पाया गया है।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:5717256

Todays Visiter:2954