21-May-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

मध्‍यप्रदेश में नगरीय चुनाव में कांग्रेस को मिला निल बटे संन्‍नाटा, बीजेपी की बल्‍ले-बल्‍ले

Previous
Next

राजकाज न्‍यूज, भोपाल

मध्‍यप्रदेश में हुए तीन नगरीय निकायों के चुनाव में जहां एक ओर मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का प्रभाव स्‍पष्‍ट नजर आया, वहीं नोटबंदी के खिलाफ आंदाेलन चलाकर अपने पक्ष में माहौल बनाने का प्रयास कर रही प्रदेश कांग्रेस के हाथ निल बटे सन्‍नाटा ही लगा। हरदा, अमरकंटक एवं मांडू में बीजेपी ही भारी रही। कांग्रेस की स्थिति यहां कमजोर ही साबित हुई।

हरदा नगर पालिका समेत प्रदेश की अमरकंटक और मांडू नगर परिषद के चुनाव में शनिवार को हुई मतगणना में तीनों ही स्‍थानों पर भाजपा को प्रभावी विजय मिली। हरदा में भाजपा के अध्यक्ष पद उम्मीदवार सुरेंद्र जैन 12990 मतों से विजयी हुए। हरदा भाजपा की यह ऐतिहासिक जीत है।
हरदा नगर पालिका चुनाव में भाजपा ने कांग्रेस के प्रत्‍याशी को एकतफा हराया। भाजपा के पार्षद प्रत्याशियाें ने 35 में से 30 वार्डो में विजय पताका फहरायी।

भाजपा प्रत्याशी सुरेंद्र जैन ने कांग्रेस के हरिमोहन शर्मा को 12990 वोटों से हराया। सुरेंद्र जैन को 27858 वोट और हरिमोहन शर्मा को 14868 वोट मिले। यहां कांग्रेस 4 वार्डो में ही जीती। एक वार्ड में भाजपा के बागी प्रत्याशी विजयी हुए। कांग्रेस प्रत्याशी हरिमोहन शर्मा को 12990 मतों से हारे।

धार जिले की मांडू नगर परिषद चुनाव में भाजपा की मालती गावर ने जीत दर्ज की। उन्होंने कांग्रेस की लक्ष्मीबाई भाभर को 400 से अधिक मतों से हराया। 15 वार्ड में से 11 पर भाजपा उम्मीदवार और 3 पर कांग्रेस उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की। एक वार्ड में गोली डालकर फैसला किया गया। यहां 79.56 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। परिषद अध्यक्ष के लिए चार और 15 पार्षद पद के लिए 38 उम्मीदवार मैदान में थे। निर्दलीय तौर पर अध्यक्ष पद के लिए दो अन्य उम्मीदवार भी मैदान में थे।

अनूपपुर जिले की अमरकंटक नगर परिषद में भाजपा की प्रभा पनारिया ने कांग्रेस की अंकेश्वरी सिंह को हराकर अध्यक्ष पद जीत लिया। यहां भाजपा के 11 पार्षद प्रत्याशी विजय हुए। कांग्रेस के तीन प्रत्‍याशी जीते। वार्ड 11 से एक निर्दलीय प्रत्याशी हनुमान दास ने जीत दर्ज की। यहां 78 प्रतिशत मतदान हुआ था। नगर परिषद अध्यक्ष पद के लिए 4 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे, जबकि 15 वार्डों के पार्षद के लिए 46 उम्मीदवार।

चंडीगढ़, महाराष्ट्र और गुजरात में भी मिली थी जीत

नोटबंदी के महाराष्ट्र, गुजरात और चंडीगढ़ के स्थानीय चुनावों में भी बीजेपी का ही परचम लहराया था। चंडीगढ़ के नगर निगम चुनाव में बीजेपी को 26 में से 21 वार्डों पर जीत दर्ज की। 27 नवंबर को गुजरात में भी स्थानीय निकायों के उपचुनाव हुए थे। यहां बीजेपी ने 126 में से 109 सीटों पर जीत हासिल की थी। कांग्रेस को सिर्फ 17 सीटें मिलीं। पहले यहां बीजेपी के पास 64 सीटें थीं और कांग्रेस के पास 52 सीटें थीं। महाराष्ट्र में भी बीजेपी ने अच्छी खासी बढ़त हासिल की थी।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:5717259

Todays Visiter:2957