10-Dec-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

कांग्रेस का आरोप- कटनी हवाला कांड के आरोपी सतीष-मनीष सरावगी के मुख्यमंत्री से भी संबंध

Previous
Next

राज्य मंत्री संजय पाठक के हवाला व्यवसाय में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष का हत्या का आरोपी बेटा भी शामिल
पाठक  और मुख्यमंत्री इस्तीफा दें, कांग्रेस ने जारी किया मुख्यमंत्री, संजय पाठक के साथ हवाला कांड
के आरोपी सतीष सरावगी का छायाचित्र


प्रदेश के कटनी जिले में एक लोकप्रिय और ईमानदार भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी गौरव तिवारी के दृढ़ निश्‍चय से उजागर हुए 500 करोड़ रूपयों का हवाला कांड करने वाले कोयला एवं खनन व्यापारी सतीष-मनीष सरावगी और उनके साथ राज्य मंत्रिमंडल के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री संजय पाठक की सीधी संलिप्तता उजागर होने के बाद कांग्रेस पार्टी की मांग है कि अपने व्यावसायिक हितों के कारण कांग्रेस छोड़ भाजपा का दामन थामकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और भाजपा के विवादास्पद तत्कालीन संगठन महामंत्री अरविंद मेनन से हुए करोड़ाें रूपयों के लेन-देन के बाद प्रदेश  में राज्यमंत्री का पद हथियाने वाले संजय पाठक से मुख्यमंत्री तत्काल प्रभाव से त्यागपत्र लें और इस पूरे प्रकरण में पाठक एवं उनके वैध-अवैध व्यवसाय में व्यावसायिक भागीदारी निभा रहे भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान के मयूर हत्याकांड में आरोपित बेटे हर्ष सिंह को संरक्षण देने वाले मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी अपने पद से इस्तीफा दें, क्योंकि इस घटना में आरोपियों को दिये गये उनके परोक्ष संरक्षण, ईमानदार पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी का स्थानांतरण, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देश में कालेधन के खिलाफ कथित रूप से जारी नोटबंदी अभियान को मुख्यमंत्री द्वारा सीधी चुनौती दी गई है।

प्रवक्‍ता केके मिश्रा ने पत्रकार वार्ता में कहा कि कांग्रेस पार्टी, देश में जारी नोटबंदी के बाद मध्यप्रदेश में हुए इस सबसे बड़े घोटाले को लेकर मुख्यमंत्री और राज्य सरकार से निम्न यक्ष प्रश्‍नों के उत्तर जानना चाहती है:-

1)    हवाला कांड में 500 करोड़ रूपयों की इतनी बड़ी राशि के रूप में उजागर कालाधन यदि राज्य मंत्री संजय पाठक का नहीं है, तो किसका है? मजदूरों, भिखारियों और दोस्तों के नाम पर जो 100 से अधिक फर्जी खाते खुलवाये गये उसमें संलग्न दस्तावेजों की कूटरचना किसके द्वारा की गई, उसमें सहयोगी कौन-कौन थे, उनकी के.वाई.सी. तैयार करने वाले कौन है?
2)    इस कांड में जिन खातों का उपयोग किया गया है, उन खाताधारकों के नाम, उनकी हैसियत, उनका आयकर रिर्टन, खाता खोलने की अवधि और उनके खातों में किये गये लेन-देन और उन खातों से जिनके नाम पर डिमांड ड्राफ्ट बनाये गये, उनका आपस में को-रिलेशन क्या है? इन खातों में जमा राषि का स्त्रोत क्या है?
3)    इस आपरधिक षड्यंत्र में किन-किन प्रभावी लोगों की भूमिकाएंे हैं और उन्हें किन प्रभावी सत्तासीन लोगांे का समर्थन व संरक्षण प्राप्त है ?
4)    आज मुख्यमंत्री ने जांच प्रक्रिया को भटकाने एवं दोषियों को बचाने के उद्देष्य से प्रकरण को जांच हेतु प्रवर्तन निदेषालय को सौंपे जाने की सिफारिष की है, क्या प्रवर्तन निदेषालय मुख्यमंत्री के अधीन है?
5)    मुख्यमंत्री द्वारा आज यह कहना कि यह जांच पुलिस नहीं कर सकती है, अत्यंत हास्यास्पद है, क्योंकि यह केवल हवाला लेन-देन का विषय नहीं है, बल्कि इस कांड में धोखाधड़ी, आपराधिक षड्यंत्र, कूटरचित दस्तावेज बनाना और बड़ा भ्रष्टाचार भी शामिल है, जो भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 120 (बी), 465, 467,468, 471 एवं प्रिवेन्षन ऑफ करप्षन एक्ट-1988 के तहत एक गंभीर संज्ञेय अपराध है, जिसकी विवेचना का पुलिस को अधिकार प्राप्त है। भारतीय पुलिस सेवा के वे अधिकारी जो दो वर्षों तक हैदराबाद स्थित आईपीएस अकादमी में आईपीसी, सीआरपीसी व अन्य कानून विषयों का गहन अध्ययन कर आते है, क्या मुख्यमंत्री जी उनसे अधिक ज्ञानी है?
6)    जब हटाये गये एसपी ने कालेधन से जुड़े इस बड़े भ्रष्टाचार की जांच एसआईटी से करायी है, तब प्रदेष के गृह मंत्री श्री भूपेन्द्रसिंह द्वारा एसआईटी जांच से इन्कार करने की बात कहना किसे संरक्षित करने का द्योतक है?
7)    क्या यह सच नहीं है कि कटनी जिले के बडवारा विधानसभा क्षेत्र जो शहडोल संसदीय निर्वाचन क्षेत्र का एक हिस्सा है, वहां स्थित हवाला कांड के आरोपित सतीष सरावगी का बंगला है, उसमें शहडोल संसदीय उपचुनाव निर्वाचन के दौरान भाजपा के प्रभारी व सांसद श्री विनय सहस्त्रबुद्धे नहीं रूके थे? चुनाव के दौरान इसी बंगले में रूकने वाले अन्य अतिप्रभावी भाजपा नेताओं व मंत्रियों के लिए सुरा-सुंदरी का इंतजाम किसकी ओर से किया गया था?
8)    क्या यह भी सच नहीं है कि राज्य मंत्री श्री संजय पाठक द्वारा संचालित हवाला व खनिज व्यवसाय में बतौर व्यावसायिक साझेदारी निभा रहे भाजपा प्रदेषाध्यक्ष के बेटे हर्ष सिंह श्री पाठक के ‘‘बरही स्थित फार्म हाउस’’ में निवास नहीं करते हैं?
9)    क्या यह सच नहीं है कि तत्कालीन एसपी श्री गौरव तिवारी ने सरावगी बंधुओं सहित भाजपा प्रदेषाध्यक्ष के बेटे की गिरफ्तारी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह की जबलपुर यात्रा समाप्त होने के ठीक दूसरे दिन कर ली थी, उसके पूर्व ही मुख्यमंत्री के दबाव में श्री गौरव तिवारी का ताबड़तोड़ तत्काल प्रभाव से स्थानांतरण किया गया, क्या यह सामान्य प्रषासनिक प्रक्रिया है या भ्रष्टाचारियों के खिलाफ ईमानदारी पूर्वक अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने वाले अधिकारियों/ कर्मचारियांे को मुख्यमंत्री की ओर से दिया गया संदेष?
10)    मुख्यमंत्री को इस पूरे प्रकरण में प्रदेष की 7.50 करोड़ जनता को बताना चाहिए कि उनके मंत्रिमंडल के काबीना राज्यमंत्री और उसके व्यावसायिक सहयोगियों का नाम जांच में आने के बाद आनन-फानन में तत्कालीन पुलिस अधीक्षक को हटाने के पीछे उनकी मंषा और मजबूरी क्या थी?

नोटबंदी के विरोध  में जोरदार बाईक रैली आयोजित

देशभर में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा की गई नोटबंदी के बाद लोगों को हुई परेशानी को देखते हुए पूरे देश भर में कांग्रेस द्वारा विरोध प्रदर्शन किये जा रहे हैं। इसी कड़ी में भोपाल मध्य कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी के मार्गदर्शन में प्रदेश कांग्रेस के पूर्व प्रवक्ता एवं भोपाल मध्य से कांग्रेस के प्रत्याशी आरिफ मसूद के नेतृत्व में नोटबंदी के विरोध में एक बाईक रैली निकाली, जो कि डीबी माल एम.पी. नगर से प्रारंभ होकर शहर के विभिन्न क्षेत्रों में होती हुई बुधवारे में समाप्त हुई। रैली को पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, आरिफ मसूद, पूर्व विधायक अर्जुन पलिया, पूर्व पार्षद रशीद चांद, पार्षद श्रीमती रईसा मलिक ने सम्बोधित किया तथा कार्यक्रम का संंचालन अब्दुल नफीस ने किया। रैली में विशेष रूप से पार्षद रफीक कुरैशी, शाहवर मंसूरी, मेवालाल सहित अनेक नेता एवं सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता सम्मिलित हुए।

युवा दिवस पर मुख्यमंत्री ने स्कूली बच्चों को दो घंटे तक कराया इंतजार: जे.पी. धनोपिया

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता जे.पी. धनोपिया ने कहा है कि युवा दिवस के अवसर पर बच्चों को राजधानी भोपाल में सूर्य नमस्कार करने के लिए बुलाया गया और आश्चर्य की बात यह है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कड़कड़ाती सर्दी में भी छोटे-छोटे स्कूली बच्चों को कार्यक्रम संपन्न कराने के लिये दो घंटे तक इंतजार कराया और वो कार्यक्रम में दो घंटे की देरी से पहुंचे तब तक बच्चे ठंड में ठिठुरते रहे।

धनोपिया ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से कहा है कि शीत लहर में दो घंटे तक बच्चों को ठंड खाने के लिये मजबूर किया जो कि निंदनीय कार्य है। इसलिये मुख्यमंत्री को उन बच्चों से सार्वजनिक रूप से माफी मांगना चाहिए, जिनके वो कथित मामा बनकर घूम रहे हैं एवं उनके साथ भावनात्मक खिलवाड़ करते रहते हैं।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:7009454

Todays Visiter:1818