10-Dec-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

सिंहस्थ के लिये पूरी तरह से तैयार है सरकार

Previous
Next
उज्जैन प्रभारी मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने की अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेन्द्र गिरि से भेंट

राज्य सरकार ने सिंहस्थ के लिये सभी संभव इंतजाम किये हैं। साधु-संतों और श्रद्धालुओं के सहयोग से सिंहस्थ का सफल आयोजन होगा। यह बात आज उज्जैन के प्रभारी मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्री नरेन्द्र गिरि से भेंट के दौरान कही। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार साधु-संतों को हरसंभव सुविधाएँ उपलब्ध करवाने का प्रयास कर रही है। प्रभारी मंत्री ने उन्हें सिंहस्थ में सरकार द्वारा किये जा रहे प्रबंधों और व्यवस्थाओं से अवगत करवाया।

धर्म-ध्वजा का आरोहण

श्री आनंद अखाड़ा पंचायती के बड़नगर रोड स्थित सिंहस्थ छावनी में धर्म-ध्वजा का पूजन और ध्वजारोहण हुआ। पुजारियों ने विधि-विधान से धर्म-ध्वजा का पूजन कर हर-हर महादेव के जय-घोष के साथ धर्म-ध्वजा फहराई।

सिंहस्थ के द्वितीय पेशवाई मार्ग में होगा जल-छिड़काव

सिंहस्थ की द्वितीय पेशवाई 10 अप्रैल को होगी। पेशवाई पंचायती आव्हान अखाड़े द्वारा निकाली जायेगी। पेशवाई के लिये त्रिवेणी और चामुण्डा जोन में तैयारियाँ शुरू कर दी गयी हैं। पेशवाई मार्ग पर जल-छिड़काव की व्यवस्था की जा रही है। मार्ग में आने वाले सभी केबल और बिजली के तारों को दुरुस्त करने की भी तैयारियाँ हो गयी हैं। पेशवाई मार्ग में ठण्डे पानी के लिये तीन स्थान पर वॉटर-हट स्थापित हो रहे हैं। अखाड़ा के स्थानीय महंत श्री सत्यगिरि महाराज ने बताया कि पेशवाई में लगभग 5000 से अधिक साधु-संत शामिल होंगे।

शनि मंदिर प्रांगण में दुग्ध पार्लर

त्रिवेणी जोन स्थित शनि मंदिर प्रांगण में दुग्ध पार्लर शुरू किया गया है। पार्लर पर गर्मी में राहत पहुँचाने के लिये शीतल पेय उपलब्ध रहेंगे। पार्लर पर उत्पाद बिना मुनाफे के निर्धारित शुल्क पर श्रद्धालुओं को दिये जायेंगे।

बैंगनी ड्रेस में मुस्तैदी से तैनात हैं मेला क्षेत्र में सफाईकर्मी
सिंहस्थ में है ठोस अपशिष्ठ प्रबंधन की योजना
भोपाल : शुक्रवार, अप्रैल 8, 2016, 17:53 IST

उज्जैन में 22 अप्रैल से 21 मई तक होने वाले सिंहस्थ में मेला क्षेत्र में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की योजना तैयार की गयी है। मेला क्षेत्र में बैंगनी कलर की ड्रेस में सफाईकर्मी नियमित रूप से सफाई कार्य को अंजाम दे रहे हैं। सिंहस्थ के दौरान शाही स्नान के दिनों में एक करोड़ श्रद्धालु प्रतिदिन तथा सामान्य दिनों में 20 से 25 लाख श्रद्धालु मेला क्षेत्र में रहेंगे। लगभग 1000 से 1200 मीट्रिक टन कचरा प्रति सामान्य दिनों में उठाया जायेगा। कचरे की यह मात्रा शाही स्नान के दिनों में लगभग दुगनी हो जायेगी। उज्जैन नगर निगम ने शाही स्नान के दिनों में प्रतिदिन 2500 मीट्रिक टन कचरा उठाने की योजना बनायी है। इसी दौरान उज्जैन के शहरी क्षेत्र में भी प्रतिदिन 300 मीट्रिक टन कचरा उठाया जायेगा।

कचरा निपटान की दृष्टि से मेला क्षेत्र को पैकेज-ए तथा पैकेज-बी में बाँटा गया है। पैकेज-ए में दत्त अखाड़ा और महाकाल जोन शामिल हैं। कांट्रेक्टर द्वारा पैकेज-ए के क्षेत्र में 3000 सफाईकर्मी तैनात किये जायेंगे। पैकेज-बी में कालभैरव और मंगलनाथ जोन को शामिल किया गया है। मेले के दौरान इन क्षेत्रों में 2000 सफाईकर्मी की तैनाती रहेगी। घाटों तथा घाट क्षेत्र में, विशेषतौर पर सफाई के लिये मेन्युअल के साथ मेकेनिकल व्यवस्था की जायेगी। जेट मशीन का इस्तेमाल घाटों की सफाई के लिये किया जायेगा। क्षिप्रा नदी में बहते कचरे को इकट्ठा करने के लिये नेट का इस्तेमाल भी किया जायेगा। मेला क्षेत्र में सकरे रास्तों पर 45 छोटे वाहन नियमित रूप से कचरा इकट्ठा करेंगे। करीब 20 ट्वीन डंपर प्लेसर ट्रक भी इस्तेमाल होंगे। सफाई कार्य में 10 काम्पेक्टर व्हीकल, 8 कैरिंग मूवेबल काम्पेक्टर व्हीकल, 40 टीपर वाहन और 40 डम्पर प्लेसर व्हीकल-सह-कंटेनर उपयोग में लाये जायेंगे।

सिंहस्थ के दौरान मेला क्षेत्र में करीब 400 किलोमीटर लम्बाई में विभिन्न सड़कों की सफाई रोड स्वीपिंग मशीन द्वारा की जायेगी। इसके लिये 4 मशीन प्रतिदिन काम करेंगी। इन मशीनों की स्पीड 15 किलोमीटर प्रतिघंटा होती है। सिंहस्थ में विभिन्न जोन क्षेत्र में अलग-अलग सड़क पर सफाईकर्मी तैनात रहेंगे। अस्सी फीट सड़क पर प्रत्येक 50 मीटर पर एक सफाईकर्मी, 60 फीट रोड पर प्रत्येक 100 मीटर पर एक सफाईकर्मी तैनात रहेगा। मेला क्षेत्र में सफाई व्यवस्था की निगरानी के लिये विशेष निगरानी दस्ते लगातार कार्य करते रहेंगे।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:7009454

Todays Visiter:1818