17-Sep-2019

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक में 500 एवं 1000 की पुरानी करंशी पर जमा या परिवर्तन पर लगे प्रतिबंध हटाने की मांग: भगवान सिंह

Previous
Next

भोपाल 18 नवम्बर। आर0बी0आई0 द्वारा 500 एवं 1000 के नोट जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों के अमानतदारों-खाताधारियों तथा ऋणी किसानों से पुरानी करेन्शी को जमा या परिवर्तन पर दिनांक 14.11.2016 से प्रतिबंध लगा देने वाली कार्यवाही पर रोक को हटाये जाने हेतु म0प्र0कॉग्रेस सहकारिता प्रकोष्ठ के प्रांताध्यक्ष एवं पूर्व केबिनेट मंत्री श्री भगवान सिंह यादव ने प्रधानमंत्री से लिखित ज्ञापन भेज कर अनुरोध किया हैं तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री, सहकारिता मंत्री, प्रबंध संचालक नाबार्ड तथा आर0बी0आई0 के गर्वनर से इस बारे मंे तुरन्त हस्तक्षेप कर प्रदेश के 1 करोड 26 लाख किसानों को राहत दिलाने की मांग की हैं।

यादव ने कहा हैं कि भारत सरकार द्वारा 500 एवं 1000 के करेन्शी नोटों का चलन बन्द कर देने के बाद रिर्जव बैंक ने 14 नवम्बर 16 से जिला केन्द्रीय सहकारी बैकों के अमानतदारों-खाताधारियों तथा ऋणी किसानों से 500 एवं 1000 के करेन्शी नोटों का चलन बन्द कर देने से पुरानी करेन्शी के जमा या परिवर्तन पर प्रतिबंध लगने के कारण सहकारी बैंकों के लगभग 74 लाख अमानतदारों जिनके बैंकिंग अमानत खाते हैं तथा 52 लाख किसानों जिनके किसान क्रेडिट कार्ड (के0सी0सी0) तथा अन्य रूप में जो ऋण खाते हैं इस प्रकार प्रदेश के कुल 1 करोड 26 लाख किसानों एवं ग्रामीणों के सामने उनकी बचत एवं पूजीं के डूबंत होने का खतरा पैदा हो गया हैं।

रिजर्व बैंक द्वारा किसानों के साथ दोहरी नीति अपनाकर भेदभाव करते हुये अन्याय किया जा रहा हैं क्योंकि शहरी क्षेत्रों की नागरिक सहकारी बैंकों पर अन्य बैंकों के समान 500 एवं 1000 वाली पुुरानी करेन्शी का जमा या परिवर्तन चालू हैं तथा जिला सहकारी बैंकों के खाताधारियों एवं ऋणी किसानों की पुरानी करेन्शी के जमा या परिवर्तन पर रोक लगा दी हैं, जबकि जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक भी रिर्जव बैंक से लायसेन्स प्राप्त बैंक हैं अन्य बैंकों तथा सहकारी बैंकों के मध्य कोई भेदभाव न कर एक समान नीति होना चाहिये ऐसा न करने से यह प्रमाणित हैं कि भाजपा ग्रामीण क्षेत्र तथा किसानों की विरोधी हैं।

आयकर विभाग द्वारा भी आयकर नियम 1962 में 30 वें संशोधन के द्वारा दिनांक 15.11.2016 को संशोधन करके पुरानी करेन्शी को सहकारी बैंकों में जमा करना मान्य कर उसकी जानकारी बैंकों से चाही गई हैं इसके बाद रिर्जव बैंक द्वारा जिला सहकारी बैंकों को पुरानी करेन्शी को जमा करने या परिवर्तित करने से वंचित करना अनुचित हैं। यादव ने मान0प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी से मांग की कि प्रदेश के लगभग 1 करोड 26 लाख किसानों तथा ग्रामीण जनता के हित को देखते हुये जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों को भी 500 एवं 1000 की पुरानी करेन्शी को जमा करने तथा उसको परिवर्तन करने की सुविधा प्रदान की जाये।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp


Warning: Invalid argument supplied for foreach() in /srv/users/serverpilot/apps/rajkaaj/public/news/footer1.php on line 120
Total Visiter:0

Todays Visiter:0