22-Jul-2018

 राजकाज न्यूज़ अब आपके मोबाइल फोन पर भी.    डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लीक करें

प्रधानमंत्री ने शौर्य के सम्मान और सामाजिक कर्तव्यों का संदेश दिया- चौहान

Previous
Next

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने शौर्य स्मारक लोकार्पण समारोह की गरिमा के अनुरूप जहां आत्मश्लाघा से परे, सैनिकों की शौर्य परम्परा पर राष्ट्र का अभिमान व्यक्त किया वहीं सैनिकों के मानवीय चेहरे को उजागर करते हुए देशवासियों को संदेश दिया। विपक्षी दलों द्वारा सर्जीकल स्ट्राईक के बारे में की जा रही अनपेक्षित टिप्पणियों की संजीदगी पूर्ण अनदेखी करते हुए उन्होंने स्पष्ट कर दिया कि देश की सुरक्षा के लिए सैनिकों को जागते हुए सतर्क रहना काफी नही है। सामान्य नागरिकों केे रूप में हमारे भी मातृभमि के प्रति कुछ दायित्व हैं। उनके प्रति हमें भी सजग रहना होगा तभी बात बनेगी। एक परिपक्व राजनेता और राजनयिक के रूप में श्री नरेंद्र मोदी ने अनपेक्षित टिप्पणियों की सियासत करने वालों से भी बातों-बातों में हिसाब चुकता कर लिया और सेना को महिमा मंडित करने में शब्दों का अभाव नहीं बरता।

उन्होने कहा कि श्री नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट किया है कि सुरक्षा के मामले में सियासत का वक्त नहीं है। इसलिए उनका अधिकांश भाषण देश के प्रहरियों, उनके परिवारों के प्रति सामयिक दायित्व और सरकार की प्रतिबद्धता पर केंद्रित रहा। ढ़ाई वर्ष में राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए क्या कुछ किया जा सकता था, ब्यौरेवार उन्होंने बताया, लेकिन सुरक्षा के मामले में सारी कामयाबी सेना और जनता को समर्पित कर दी। आज के युग में जहां उपलब्धियों को अपने खाते में दर्ज करने की होड़ लगी है। श्री मोदी ने उरी की आतंकी घटना के बाद भारत का मस्तक ऊंचा करने वाली सुरक्षा कार्यवाही का श्रेय भी सेना और रक्षा मंत्री को दे दिया। परोक्ष में उन्होंने यह भी स्पष्ट कर दिया कि सर्जीकल स्ट्राईक की पहल एनडीए सरकार का साहसिक कदम था। सरकार की प्रतिबद्धता थी।

चौहान ने कहा कि इस बात के लिए भी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी प्रशंसा के पात्र हैं कि उन्होंने संकेतों में पड़ोसी मुल्क की अमानवीय करतूतों, जम्मू कश्मीर के गुमराह युवकों और सियासत को इंगित कर दिया तथा यह कहते हुए विश्व मानवता के मर्म को छू लिया कि भारतीय सेना और उसकी शौर्य गाथाएं दुनिया में अप्रतिम हैं, उसके कारण है। प्राकृतिक आपदा और संकट के दौर में जिनके पत्थर और गोलियां सीने में घाव कर चुकी हैं। चाहे वह कश्मीर की बाढ़ हो अथवा यमन का दहशतगर्दी का दौर हो अपनी जिन्दगी दांव पर लगाने में भारतीय फौज पीछे नहीं रही। अवसर के अनुरूप प्रधानमंत्री ने फौज के साथ ही जन सामान्य का दिल जीता और आत्मविश्वास बुलंदी पर पहुंचा दिया।

 

पाकिस्तान को खरी खरी, भारत से अपनी तुलना करने की जुर्रत न करे- श्री शर्मा

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष व विधायक श्री रामेश्वर शर्मा ने कहा कि ओबामा प्रशासन से गुहार लगाने गए पाकिस्तान के शिष्ट मंडल को खरी खरी सुनाकर पाकिस्तान को उसकी असली औकात बता दी है। व्हाईट हाऊस ने स्पष्ट कर दिया कि भारत को आत्म सुरक्षा का संवैधानिक अधिकार है। जाहिर है कि ओबामा प्रशासन ने माना कि पाक प्रायोजित आतंकवाद को भारत ने माकूल जवाब दिया है। भारत के शांति और सुलह के प्रयासों के बावजूद पाकिस्तान ने आतंकवाद का दामन नहीं छोड़ा। वैश्विक पटल पर पाकिस्तान का चेहरा दागदार साबित हो चुका है। दुनिया आश्वस्त है कि निशाने पर आतंकवादी शिविर है, अवाम नहीं।

Previous
Next

© 2015 Rajkaaj News, All Rights Reserved || Developed by Workholics Info Corp

Total Visiter:6127052

Todays Visiter:1506